जालोर की बेहतर सरकारी स्कूल: फिजिक्स व केमिस्ट्री के व्याख्याता के बिना ही विज्ञान विषय के सभी 40 बच्चे प्रथम श्रेणी से उतीर्ण

जालोर की बेहतर सरकारी स्कूल : फिजिक्स व केमिस्ट्री के व्याख्याता के बिना ही विज्ञान विषय के सभी 40 बच्चे प्रथम श्रेणी से उतीर्ण

  • जसवंतपुरा स्थित सरकारी स्कूल के सभी बच्चे प्रथम श्रेणी से उतीर्ण
  • व्याख्याताओं की मेहनत रंग लाई

दिलीप डूडी

फर्स्ट राजस्थान @ जालोर

सरकारी स्कूलों की प्रतिष्ठा बढ़ाने वाली स्कूलों में एक स्कूल ऐसी भी है, जिनमें फिजिक्स व केमेस्ट्री के व्याख्याता के बिना ही सालभर पढ़कर इस स्कूल के सभी 40 विद्यार्थियों ने विज्ञान विषय में प्रथम श्रेणी अंक हासिल किए हैं। इतना ही नहीं 25 ने तो 70 फीसदी से भी अधिक अंक प्राप्त किये है। आइये पढ़ते है पूरी जानकारी…

first rajasthan

जसवंतपुरा की राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल में पिछले जुलाई माह से विज्ञान वर्ग के विषय में केमिस्ट्री और फिजीक्स के व्याख्याताओं के पद रिक्त होने के बावजूद सभी बच्चों ने प्रथम श्रेणी से परीक्षा उतीर्ण की। इन बच्चों को एल 1 की दो अध्यापिकाओं ने केमिस्ट्री और फिजीक्स विषय पढ़ाया। वहीं प्रधानाचार्य, जीव विज्ञान और गणित के व्याख्याताओं ने भी पूरी मेहनत कर बच्चों की पढाई का पूरा ख्याल रखा। विज्ञान वर्ग के जारी हुए परिणाम में यहां पढने वाले सभी बच्चे प्रथम श्रेणी से उतीर्ण हुए हैं।

गौरतलब है कि जालोर जिले में सरकारी स्कूलों को निजी स्कूलों से कमतर आंकना विज्ञान विषय के परिणाम के माध्यम से गलत साबित हुआ। इस बार सरकारी स्कूलों के व्याख्याताओं ने मेहनत कर बच्चों को भी 90 से अधिक प्रतिशत दिलाने में पूर्ण सहयोग किया।

निजी स्कूलों के प्रति क्रेज के चलते सरकारी स्कूलों की अनदेखी हो रही है। बेहतर परिणाम के लिए अधिकांश अभिभावक निजी स्कूलों में अपने बच्चों को एडमिशन दिलाने के कतार में खड़े रहते हैं। लेकिन पिछले कुछ सालों से राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के व्याख्याताओं ने जी तोड मेहनत की और परिणाम सामने है। ऐसा ही परिणाम लाया है राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय जसवंतपुरा ने, जहां स्कूल में पढने वाले 40 बच्चों ने प्रथम श्रेणी से विज्ञान वर्ग की परीक्षा पास की। स्कूल के प्रधानाचार्य विक्रमसिंह चारण ने बताया कि विषयाध्यापकों की कर्मठता, समर्पण के साथ विद्यार्थियों की लगन व परिश्रम से ही यह परिणाम संभव हुआ है।

ये है जसवंतपुरा स्कूल के नायाब हीरो
राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल जसवंतपुरा के जीवाराम ने 90.20 और प्रताप कुमार ने 90 प्रतिशत प्राप्त किए। वहीं नरेश कुमार ने 89.20, कुनाल कुमार 89.20 और राणाराम ने 86.80 प्राप्तांक प्राप्त किए। वहीं करीब 10 बच्चों ने तो 80 प्रतिषत से ज्यादा अंक प्राप्त किए। वहीं 25 बच्चों ने 70 प्रतिषत से ज्यादा प्राप्तांक लाए। इसमें विषयाध्यापकों का भी बहुत योगदान रहा। कक्षााध्यापक दिनेष वैष्णव ने बताया कि बच्चों का कोर्स समय पर पूरा करवाया गया। वहीं बार-बार रिवीजन के कारण बच्चों को काफी मदद मिली। वैष्णव जीव विज्ञान के व्याख्याता है और गौतमचंद भाटी बच्चों को गणित विषय पढाते हैं।

- विक्रमसिंह चारण, प्रधानाचार्य

समय पर कोर्स पूर्ण कर बार-बार रिवीजन किया
सभी विषयाध्यापकों ने बच्चों को पढाने में पूरी मेहनत की। समय पर कॉर्स पूर्ण कर बार-बार रिवीजन पर फोकस किया। वहीं बच्चे भी प्रषंसा के पात्र है, जिन्होंने पढाई पर पूरा ध्यान दिया। जिससे स्कूल के विज्ञान वर्ग के सभी 40 बच्चें प्रथम श्रेणी से उतीर्ण हुए हैं।
- विक्रमसिंह चारण, प्रधानाचार्य, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, जसवंतपुरा

हिंगलाज चारण

अभिभावक सरकारी स्कूलों पर भरोसा कामय रखें
सरकारी स्कूलों में षिक्षक पूरी मेहनत कर बच्चों को पढाने में लगे हुए हैं। विज्ञान वर्ग के परिणाम में भी सरकारी स्कूलों ने बेहतर प्रदर्शन किया है। जसवंतपुरा समेत कई स्कूलों ने बेहतर परिणाम लाया है। जसवंतपुरा की राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के सभी 40 बच्चे प्रथम श्रेणी से पास हुए हैं। सभी स्टाफ और प्रधानाचार्य को बधाई। अभिभावक सरकारी स्कूलों पर भरोसे हमेशा कामय रखें।
- हिंगलाज चारण, जिला संयोजक, करणी शिक्षक संघ, जालोर