Video : कलेक्टर साहब ! डेंगू से बचाओ, सैकड़ो मरीज अस्पतालों में भर्ती है, फोगिंग तो करवाओ…,

Video : कलेक्टर साहब ! डेंगू से बचाओ, सैकड़ो मरीज अस्पतालों में भर्ती है, फोगिंग तो करवाओ…,

Video : कलेक्टर साहब ! डेंगू से बचाओ, सैकड़ो मरीज अस्पतालों में भर्ती है, फोगिंग तो करवाओ…,
Video : कलेक्टर साहब ! डेंगू से बचाओ, सैकड़ो मरीज अस्पतालों में भर्ती है, फोगिंग तो करवाओ…,

First rajasthan @ जालोर
जालोर में बड़ी तेजी से डेंगू पांव पसार रहा है। बड़ी संख्या में पिछले कुछ दिनों से डेंगू के मरीज सामने आने लगे हैं। सरकारी अस्पतालों की बजाय निजी चिकित्सालयों पर नजर डालें तो नजारा खतरनाक सामने आएगा। शहर की हर गली से कोई न कोई डेंगू से ग्रसित मरीज अस्पताल में भर्ती दिखेगा। खासकर आठ से पंद्रह वर्ष के बालको में अधिक डेंगू के मामले सामने आए है। इतनी बड़ी संख्या में वायरल और डेंगू के बाद भी शहर में फोगिंग की व्यवस्था नहीं करवाई जा रही है। लोग कलेक्ट्रेट के सहायता केंद्र जा रहे है, लेकिन वहाँ से भी व्यवस्थित जवाब नहीं मिल पा रहा है। जिला मुख्यालय पर इतने गम्भीर हालात है तो फिर गांवों का तो सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

सरकारी अस्पताल की ओपीडी हो गई दुगुनी, लेब के आंकड़े भी बढ़े
इन दिनों मच्छरों के प्रभाव अधिक होने के कारण बुखार से पीड़ितों की संख्या बढ़ रही है। मुख्यालय के सामान्य अस्पताल की सामान्यतः करीब तीन सौ की ओपीडी रहती थी जो अब छह सौ से अधिक की हो रही है। हर रोज सीबीसी की जांच के लिए करीब अस्सी से अधिक मरीज लेबोरेटरी पहुंच रहे है। जिनमे कई तो डेंगू के भी मरीज होते है।

शहर में नहीं हो रही है फोगिंग
शहर में फोगिंग की व्यवस्था नहीं हो पाई है। शहरवासियों ने बताया कि सर्दी अभी बढ़ी नहीं है। जिस कारण मच्छर पनपे हुए है। ऐसे में फोगिंग की सख्त जरूरत है, लेकिन विभाग की ओर से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में मजबूरन लोग निजी अस्पतालों में उपचार कराने को मजबूर हो रहे है।

दो बेटे डेंगू से पीड़ित, कोई सुनवाई तक नहीं
गौडीजी जालोर निवासी अमराराम चौधरी ने बताया कि उनके दोनों बच्चों को डेंगू पॉजिटिव है। 26 अक्टूबर से निजी अस्पताल में भर्ती है, हेल्पलाइन पर कॉल करके एरिया में फोगिंग की मांग की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसी प्रकार मानपुरा कॉलोनी निवासी गणपतलाल ने बताया कि उनके बेटे को डेंगू हो गया। उसे भी निजी अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा है। सरकारी अस्पताल के भरोसे नहीं बैठ सकते। सरकार से तो फोगिंग करवाने का निवेदन किया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही, हेल्पलाइन से भी टरकाकर भेज देते है। किसको दुख सुनाए।

https://youtu.be/6zWniUV_GZY
video