जालोर : चंडीगढ़ के सुगना लेक की तर्ज पर सुन्देलाव को बनाएंगे पर्यटन स्थल

जालोर : चंडीगढ़ के सुगना लेक की तर्ज पर सुन्देलाव को बनाएंगे पर्यटन स्थल

  • जन सहयोग से पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करेंगे

फर्स्ट राजस्थान @ जालोर

मानसून से पूर्व ग्रेनाइट नगरी के ऐतिहासिक सुन्देलाव तालाब को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की कार्य योजना को लेकर जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता के निर्देशन में विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों, भामाशाहों एवं अधिकारियों की बैठक सुन्देलाव तालाब पर रानी भटियाणी माता मंदिर में सम्पन्न हुई। बैठक में शहर के गणमान्य नागरिकों सहित विभिन्न संगठनों ने बरसात से पूर्व पर्यटन धरोहर सुन्देलाव तालाब के विकास की कार्य योजना पर तन-मन-धन से सहयोग देकर आम लोगों का जुड़ाव पैदा करने की बात कही।

सुंदेलाव तालाब विकास के लिए 10 लाख- हिमांशु गुप्ता
जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने कहा कि बारिश होने से पूर्व सुन्देलाव तालाब को विकसित करने हेतु बेसिक कार्य, पिचिंग, फव्वारा, चौपाटी, पौधारोपण, डिसल्टिंग, खुदाई, वर्किंग ट्रेक, ट्रेपरनुमा सहित तालाब के चारों ओर मिट्टी हटाकर ढ़लान बनाते हुए तालाब के बीच के आयलेण्ड को विकसित करने सहित लाईटिंग कार्य को तत्परता के साथ जन सहयोग से किये जाने की आवश्यकता है जिससे कि जालोर के आमजन का जुड़ाव पैदा करके इसे पर्यटन धरोहर के रूप में विकसित किया जा सके।
जिला कलक्टर ने सुन्देलाव तालाब को चंडीगढ़ के सुगना लेक की तरह पिकनिक, मनोरंजन, सुबह-शाह सैर तथा आमजन के लिए उपयोगी बनाने की बात कहते हुए जन सहयोग की अपील करते हुए जिला प्रशासन द्वारा सुन्देलाव तालाब के विकास के लिए 10 लाख रूपये के कार्य करवाने की बात कही।

जालोर विधायक जोगेश्वर गर्ग ने शहर की ऐतिहासिक बावड़ियों से तालाब को पाईप लाईन पम्प से जोड़ने की योजना के क्रियान्वयन पर विचार किए जाने सहित पर्यटन विकास के विभिन्न पहलुओं पर भामाशाहों से सहयोग की बात कही।
बैठक के प्रारम्भ में जालोर विकास समिति के सचिव मोहन पाराशर ने स्वागत भाषण देते हुए उद्देश्य एवं भावी कार्ययोजना के बारे में जानकारी दी।

बैठक में उपस्थित गणमान्य नागरिकों, स्वयंसेवी संगठन के पदाधिकारियों एवं अधिकारियों ने सुंदेलाव तालाब के विकास को लेकर बनाये प्लान के नक्शे का अवलोकन किया।
बैठक में माइनिंग एसोसिएशन के भवानीसिंह धांधिया ने तालाब के चारों ओर बबूल की झाड़ियों को हटाकर आर.सी.सी. का ट्रेक बनाने की सुझाव दिया और आठ लाख रूपए के विकास कार्य करवाने का आश्वासन दिया। युवा कॉन्ट्रेक्टर कान्तिलाल माली ने तालाब के चारों तरफ ट्रेक एवं बीच के टापू पर रोड लाईट लगाने का कार्य स्वयं के द्वारा किए जाने की वचनबद्धता जाहिर की। ग्रेनाईट उद्यमी पुष्पराज बोहरा एवं रवि बोहरा ने ओपन जिम, झूले, बैंच लगाने सहित ग्रेनाईट एसोसिएशन से सहयोग लेकर पानी का कटाव रोकने हेतु 5-6 स्थानों की पिचिंग कार्य करवाने के लिए सहमति व्यक्त की। नेचुरल ग्रेनाईट के गोपाल जोशी ने महर्षि दधीचि उद्यान के नाम से पार्क विकसित करने की जिम्मेदारी ली।

इंजीनियर मदनराज बोहरा ने तालाब में पानी के आवक के रूके हुए स्त्रोतों को पुनः चालू करने, पानी के आवक की योजना पर प्रकाश डालते हुए आवश्यक कार्यों के क्रियान्वयन की योजना के बारे में बताया।
नागरिक बैंक के अध्यक्ष नितिन सोलंकी ने सुंदेलाव तालाब विकास के लिए दो लाख रूपये, मनोहर सिंह नारणावास ने ट्रैक के चारों ओर झीकरा डलवाने, अरविन्द गर्ग एवं पार्षद हीरा देवासी ने 35-35 हजार के विकास कार्य में सहयोग देने का वचन दिया।

नगर परिषद के उप सभापति अम्बालाल व्यास ने सुन्देलाव तालाब पर आमजन के लिए मेले सहित अन्य गतिविधियां आयोजित करने की बात कही ताकि आम जन का ऐतिहासिक धरोहर के प्रति जुड़ाव पैदा हो। उन्होंने नये बस स्टेण्ड के पास जमा ओवरफ्लो पानी को पाईप लाईन से तालाब में जोड़ने का प्रस्ताव दिया।

जिला कलक्टर ने उपखंड अधिकारी चंपालाल जीनगर एवं नगर परिषद आयुक्त महिपाल सिंह को बरसात से पूर्व तालाब में पानी की आवक सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया वही वन विभाग के अधिकारियों को चिन्हीकरण कर चौपाटी किनारे बड़े छायादार वृक्ष के पौधारोपण करने हेतु निर्देशित किया। नगर परिषद द्वारा तालाब के चारों ओर सफाई एवं बबूल की झाड़ियां हटाने के लिए कार्य करने के निर्देश दिये।

उन्होंने भामाशाहों को आश्वस्त किया कि जन सहयोग के साथ प्रशासन हर संभव सहयोग करते हुए कभी पीछे नहीं हटेगा। उन्होंने झील और चौपाटी का एरिया डिजायन करने के पश्चात् ही पक्के निर्माण करने की बात कही।
लॉयन्स क्लब के कालुराज मेहता, भारत विकास परिषद के बी.एल.सुथार ने वृक्षारोपण एवं उनकी सुरक्षा में आर्थिक सहयोग देने की वचनबद्धता जाहिर की।

उपखंड अधिकारी चम्पालाल जीनगर ने आभार ज्ञापित करते हुए पर्यटन धरोहर सुंदेलाव तालाब को विकसित करने में तन-मन-धन से सहयोग के लिए आगे आने की अपील करते हुए आभार ज्ञापित किया। बैठक का संचालन नूर मोहम्मद ने किया।
जिला कलक्टर ने खेतलाजी मंदिर के पास वृक्षारोपण कर तालाब की जेसीबी द्वारा डिसिल्टिंग कार्य के संबंध में दिशा-निर्देश दिए।

अतिरिक्त जिला कलक्टर सी.एल.गोयल, पार्षद लक्ष्मण सिंह सांखला, बसंत सुथार, धनपत बोहरा, रिटायर्ड बैंक अधिकारी पी.एल.सोनगरा, दलपतसिंह आर्य, हरबंशसिंह, वरूण पोमल सहित सार्वजनिक निर्माण विभाग, विद्युत विभाग, जलदाय विभाग, नगर परिषद सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।