दो दिन बाद जोधपुर में फिर फूटा कोरोना बम

दो दिन बाद जोधपुर में फिर फूटा कोरोना बम

दो दिन बाद जोधपुर में फिर फूटा कोरोना बम
दो दिन बाद जोधपुर में फिर फूटा कोरोना बम

जोधपुर। दो दिन से जोधपुर शहर में कोरोना संक्रमितों का कम होता आंकड़ा गुरुवार सुबह एक बार फिर बढ़ गया। मेडिकल कॉलेज की ओर से जारी जांच रिपोर्ट में एक साथ 20 नए कोरोना संक्रमित मिले है जबकि तीन डीएमआरसी से जारी रिपोर्ट में 3 की पॉजिटिव रिपोर्ट बताई गई है। आज मिले नए मरीजों में से 17 जने पहले से हॉट स्पॉट बने उदय मंदिर क्षेत्र है। चौंकाने वाली बात यह है कि इनमें से 6 जने 10 वर्ष से कम आयु के है। शहर में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या अब 310 तक पहुंच गई है।
शहर के नागौरी गेट व उदय मंदिर कोरोना संक्रमितों के हॉट स्पॉट बने हुए है। इन दोनों क्षेत्रों से करीब 150 से अधिक संक्रमित मिल चुके है। आज 17 जने उदयमंदिर क्षेत्र के है। प्रशासन का कहना है कि इन दोनों क्षेत्रों में लगातार रैंडम सैंपलिंग की जा रही है। अधिकांश लोगों में कोरोना के लक्षण नजर नहीं आए है लेकिन एहतियात के तौर पर लिए गए सैंपलों में पॉजिटिव मरीज मिल रहे है। आज मंडोर क्षेत्र से पहली बार दो नए संक्रमित मिलने से प्रशासन की चिंता बढ़ गई है।
दो दिन में आई थी गिरावट
इससे पहले शहर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में गिरावट आई थी। बुधवार को 11 नए रोगी मिले थे जो पिछले 9 दिनों में सबसे कम थे। मंगलवार को भी 12 रोगी ही सामने आए थे जबकि इससे पहले के 8 दिनों में 216 पॉजिटिव मिल चुके थे। डीएमआरसी ने जांच के लिए दिए 600 सैंपल की रिपोर्ट तीन दिन बाद भी नहीं दी है जबकि कोरोना से लडऩे में रिपोर्ट जल्दी मिलना सबसे अहम है। मेडिकल कॉलेज ने 18 अप्रैल को 62 सैंपल डीएमआरसी को दिए जिनको 4 दिन में जांचकर निगेटिव बताए गए। इसके बाद 19 अप्रैल को 100, 20 को 218 व 21 अप्रैल को दिए 286 सैंपल की रिपोर्ट अब तक नहींं मिली है।
पहले निगेटिव फिर पॉजिटिव
शहर का दूसरा कोरोना पॉजिटिव मरीज शास्त्रीनगर निवासी 61 वर्षीय बुजुर्ग अभी तक अस्पताल में कोरोना से जंग लड़ रहा है। इनका केस डॉक्टरों के लिए पेचिदा बन चुका है। यह बुजुर्ग एकदम स्वस्थ नजर आते है। भर्ती होने के बाद इलाज से यह बुजुर्ग तीन बार निगेटिव आए लेकिन इसके बाद पांच बार पॉजिटिव आ चुका है। शहर में अब तक सामने आए 299 पॉजिटिव मरीजों में यह बुजुर्ग एक अनोखा केस बन गया है। अनोखा इसलिए भी बुजुर्ग का भतीजा और पत्नी दोनों पॉजिटिव थे और वे ठीक होकर घर जा चुके हैं। इसके अलावा बुजुर्ग दंपती के संपर्क में आई एक युवती जो मुंबई से इनके साथ ट्रेन में आईं, वह भी निगेटिव होकर घर जा चुकी हैं, लेकिन इनका संघर्ष जारी है। कोरोना का इलाज कर रहे डॉ. अरविंद जैन ने बताया कि वायरस कई बार शरीर में डेड हो जाता है, लेकिन उसकी कोटिंग और आरएनए सैंपल जांच में पॉजिटिव दिखाता है। मरीज पूरी तरह स्वस्थ है। खांसी-जुकाम, बुखार और शरीर में सूजन जैसी कोई समस्या नहीं है। क्लीनिकली यह भी अभी नहीं कहा जा सकता है कि यह वायरस दूसरे व्यक्ति को संक्रमित करेगा या नहीं, इसलिए एहतियातन मरीज को अलग संक्रामक रोग संस्थान में रखा हुआ। मरीज के इलाज में जयपुर एसएमएस में जो इटली वाले मरीज को दवाएं दी जा रही थी, वह दवा हमने दी है।